News
बिहार में महिला घरेलू हिंसा के 33000 मामले दर्ज: रिपोर्ट

बिहार में पिछले एक दशक में महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा के 33 हजार 285 मामले दर्ज किए गए। महिला हेल्पलाइन में दर्ज होने वाले महिलाओं के खिलाफ अपराध में यह सर्वाधिक है। महिला हेल्पलाइन ने अब तक 27 हजार 576 घरेलू हिंसा से जुड़े मामलों में कार्रवाई की है, जो कुल दर्ज मामलों का 83 फीसदी है।

समाज कल्याण विभाग के तहत संचालित हेल्पलाइन महिलाओं को उत्पीड़न व शोषण से मुक्ति दिलाने का सशक्त माध्यम बनकर उभरा है। बिहार के सभी जिलों में महिला हेल्पलाइन है। मुख्यमंत्री नारी शक्ति योजना के तहत हेल्पलाइन वर्ष 2008-09 से शुरू की गई थी। .

महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में घरेलू हिंसा के बाद दूसरा सबसे बड़ा अपराध दहेज प्रताड़ना से जुड़ा है। दहेज प्रताड़ना के अब तक 6524 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि इनमें 5195 मामलों में कार्रवाई की गई। वहीं, दहेज हत्या से जुड़े 234 मामलों में से 217 में पुलिस थानों के माध्यम से कार्रवाई की गई है। महिलाओं से जुड़े सबसे जघन्य अपराधों में शामिल मानव व्यापार के कुल 469 मामले सामने आए। 

ये मामले विभिन्न जिलों में अलग-अलग दर्ज किए गए। इनमें सर्वाधिक मामले नेपाल से सटे उत्तर बिहार के जिलों में दर्ज किए गए हैं। इस तरह के 433 मामलों में हेल्पलाइन ने कार्रवाई की। नए वर्ष में राज्य सरकार के समक्ष महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करना चुनौती होगी। 

महिला हेल्पलाइन को आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं ताकि महिलाओं की शिकायत पर तत्काल सहायता उपलब्ध करायी जा सकें और शिकायतों के खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई की जा सकें।